Warning: Creating default object from empty value in /home/vwebqlld/public_html/examguider.com/wp-content/plugins/widgetize-pages-light/include/otw_labels/otw_sbm_grid_manager_object.labels.php on line 2

Warning: Creating default object from empty value in /home/vwebqlld/public_html/examguider.com/wp-content/plugins/widgetize-pages-light/include/otw_labels/otw_sbm_shortcode_object.labels.php on line 2

Warning: Creating default object from empty value in /home/vwebqlld/public_html/examguider.com/wp-content/plugins/widgetize-pages-light/include/otw_labels/otw_sbm_factory_object.labels.php on line 2
नाबार्ड – Exam Guider

नाबार्ड

नाबार्ड

नाबार्ड का विस्तृत रूप कृषि और ग्रामीण विकास के लिए नेशनल बैंक है. नाबार्ड भारत में एक प्रमुख ग्रामीण विकास से सम्स्बधित बैंक है. इसका मुख्यालय मुंबई (महाराष्ट्र) में स्थित हैं. नाबार्ड की शाखाएं पूरे देश में फैली हुई हैं. नाबार्ड, शिवरामन समिति की सिफारिशों पर नेशनल बैंक के लिए कृषि एवं ग्रामीण विकास अधिनियम1981 को लागू करते हुए 12 जुलाई 1982 को स्थापित किया गया था.
नाबार्ड का प्रमुख उद्देश्य क्रियाशील ऋण सहायता के माध्यम से स्थायी और निष्पक्ष कृषि एवं ग्रामीण समृद्धि, को मजबूत बनाना था. इसके अलावा इस संस्था को विकास से संबंधित सेवाओं और अग्रणी कार्यों को सम्पादित करने की जिम्मेदारी दी गयी थी.
नाबार्ड के प्रमुख कार्य हैं:
नाबार्ड को निम्नलिखित कार्य करने के लिए एक विकास बैंक के रूप में मान्यता दी गई थी:
1. ग्रामीण क्षेत्रों में विविध विकासात्मक गतिविधियों को जारी रखने के लिए निवेश और उत्पादन हेतु ऋण की उपलब्धि को संभव बनाना और विविध संस्थानों के लिए एक प्रमुख वित्तपोषण एजेंसी के रूप में कार्य करना.
2. ऋण संस्थाओं के ऋण वितरण प्रणाली की निगरानी करना और साथ ही उनका पुनर्गठन, पुनर्वास आदि कार्यों को सम्पादित करना. इसके अलावा योजनाओं एवं कर्मियों के प्रशिक्षण के निर्माण के साथ-साथ उनकी दक्षता में वृद्धि करना.
3. ग्रामीण क्षेत्र में वित्त सुविधा उपलब्ध कराने वाली संस्थाओं के मध्य समन्वय बनाना और विकासपरक कार्यों के सन्दर्भ में केंद्र सरकार और राज्य सरकार के मध्य में आपसी समन्वय बनाना. इस सन्दर्भ में भारतीय रिज़र्व बैंक और अन्य वित्तीय संसथाएं नीतियों के निर्माण में प्रमुख भूमिका का निर्वहन करती हैं.
4. परियोजनाओं के पुनर्वित्तियन कार्यक्रमों की निगरानी करना और उनका मूल्यांकन करना.

You may also like...